Call Now : 1800-12300-1800

Piles Treatment

What will be the best way to treat hemorrhoids, is it Ayurveda; No surgery No Operation?

What will be the best way to treat hemorrhoids, is it Ayurveda; No surgery No Operation?
Views : 58 Published on : 18-06-2020

Nowadays, this Runaway life has changed the lifestyle and food habits of our human beings completely, from inopportune sleeping - to nutritionally harmful food, today whatever they are has become an integral part of our lifestyle. It's because of that some disease gets associated with every person. One such serious disease is Piles, i.e. hemorrhoids, which is a disease about which people hesitate to talk openly to each other, even avoiding going to the doctor for treatment, due to they keep on battling this disease inside. A person suffering from this disease is not only experiencing physical pain but is also struggling with mental problems when he is unable to tell his illness and discomfort to anyone. 


The main symptoms of this disease are bleeding with feces, itching, pain, swelling, etc. in the anus area. Due to all these problems, the victim (patient) starts doing some treatment, which sometimes gives the patient a short stay for some time. But after some time, this problem becomes even more complicated and they start bothering the patient again. The reason for this is that the piles become active again, so removing the piles from the root and eliminating them is the permanent cure for this disease, for which doctors often recommend an operation to remove them (sometimes a patient thought there’s anyone the best way to treat hemorrhoids), but through the operation From the outer part of the piles which is visible; Only that part is cut and separated, but their roots remain inside, as this operation is on the anus where the risk of infection is also high and often it turns into a hole after the operation, Pus, blood (bleeding piles) and even feces begin to come. Now, this condition is known as Fistula. This means that a new and more complex disease but there’s the best way to treat hemorrhoids is available in Ayurveda and associated with the patient than Piles.


There is only one treatment to eliminate hemorrhoids from the root and to protect the patient from a serious condition such as fistula, which has been formulated by "PharmaScience The Indian Ayurveda" through centuries of research and long-term experiments. Piles Complete Resolution ". This specific treatment eliminates the piles (piles) from the roots within just 15 days. Also, this treatment is one of the best way to treat hemorrhoids, when it was given to the patient with a 100% money-back guarantee. This treatment has many features that make it different from other treatments and operations. like: 


1. This treatment is the best way to treat hemorrhoids completely based on the Ayurveda method. 

2. There is no need for the patient to be admitted to the hospital for treatment, but under the supervision of the doctor, the patient is given complete treatment at his place of residence. 

3. The treatment does not make any incision or trunk. 

4. In this treatment, just by applying the lap of the medicine on the surface of the piles, both the external and internal warts fall out of the root. 

5. Since warts have fallen from the root, after this treatment, the patient does not have this problem again in the future. 

6. After the wounds of the pile fell from the roots of the pile, sometime after the wound is filled, there are no marks of it. 



आज कल की इस भागदौड़ भरी जिंदगी ने हम मनुष्यों के लाइफ स्टाइल और खान-पान को बिलकुल बदल कर रख दिया है असमय सोने - उठने से ले कर पोषण रहित हानिकारक आहार तक, जो कुछ भी हैं वह आज हमारी जीवन शैली का हिस्सा बन चूका है इन्ही के चलते हर व्यक्ति के साथ कोई न कोई बीमारी जुड़ ही जाती है। ऐसी ही एक गंभीर बीमारी है, पाइल्स यानि बवासीर ये एक ऐसी बिमारी है जिसके बारे में लोग एक-दूसरे से खुलकर बात करने से तक झिझकते हैं, यहां तक कि इलाज के लिए डॉक्टर के पास जाने में भी परहेज करते हैं, जिसके कारण वे अंदर ही अंदर इस बीमारी से जूझते रहते हैं। इस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति न सिर्फ शारीरिक पीड़ा झेल रहा होता है बल्कि संकोचवश किसी से अपनी बीमारी और तकलीफ न बता पाने पर मानसिक परेशानी भी जूझ रहा होता है। 


मुख्य रूप से इस बीमारी के लक्षणो में मल के साथ खून आना, गुदाद्वार पर खुजली, दर्द, सूजन आदि होते हैं। इन सभी समस्याओं के चलते पीड़ित व्यक्ति (रोगी) कुछ न कुछ उपचार करने लगता है, जिनसे कभी-कभी रोगी को कुछ समय के लिए थोड़ी रहत भी मिल जाती है। लेकिन कुछ समय बाद, यह समस्या और भी ज्यादा जटिल हो जाती है और उन्हें पुनः रोगी को परेशान करने लगती है। जिसकी वजह पाइल्स का फिर से सक्रिय हो जाना होता है, इसलिए पाइल्स को जड़ से हटा कर इसे हमेशा के लिए खत्म करना ही इस बीमारी का स्थाई इलाज है जिसके लिए अक्सर डॉक्टर उन्हें हटाने के लिए ऑपरेशन की सलाह देते हैं, लेकिन ऑपरेशन के माध्यम से बवासीर का बाहरी भाग जो दिखाई देता है; केवल वह हिस्सा कट कर अलग कर दिया जाता है, लेकिन उनकी जड़ें अंदर ही रह जाती हैं, चूँकि यह ऑप्रेशन गुदाद्वार पर होता है जहा इंफेक्शन का खतरा भी ज्यादा बना रहता है और प्रायः ऑप्रेशन के बाद यह एक छेद में बदल जाता है, जिससे मवाद, रक्त और यहां तक कि मल भी आने लगता है। अब इस स्थिति को फिस्टुला के नाम से जाना जाता है। इसका मतलब यह हुआ कि पाइल्स की तुलना में एक नया और अधिक जटिल रोग रोगी से जुड़ जाता है। 


बवासीर को जड़ से खत्म करने और रोगी को फिस्टुला जैसी गंभीर स्थिति से बचाने के लिए केवल एक ही उपचार है, जो सदियों के शोध और दीर्घकालीन प्रयोगो के माध्यम से "फार्मा साइंस द इंडियन आयुर्वेद" द्वारा तैयार किया गया है, जिसे "एंटी-पाइल्स कम्प्लीट रेजोल्यूशन" के नाम से जाना जाता है। इस विशिष्ट उपचार द्वारा सिर्फ 15 दिनों के भीतर ही पाइल्स (बवासीर) के मसो को जड़ों से खत्म कर दिया जाता है। साथ ही यह उपचार रोगी को १००% मनी बैक गारंटी के साथ दिया जाता है इस उपचार की बहुत सी खासियत है जो इसे दूसरे इलाज और ऑप्रेशन से अलग बनती है।  जैसे:


1. यह उपचार पूर्णतः आयुर्वेदिक पद्धति पर आधारित है। 

2. उपचार के लिए रोगी को हॉस्पिटल में भर्ती होने की कोई आवश्य्कता नहीं होती अपितु चिकित्सक की निगरानी में रोगी के निवास स्थान पर ही उसे सम्पूर्ण इलाज दिया जाता है। 

3. उपचार में किसी भी तरह से चीरा या टंका नहीं लगाया जाता है। 

4. इस उपचार में पाइल्स के मसो की सतह पर दवा के लैप को लगाने मात्र से बाहरी व आंतरिक दोनों ही तरह के मसे बहार निकल कर जड़ से गिर जाते है। 

5. चूँकि मसे जड़ से गिर चुके होते है अतः इस उपचार के बाद रोगी को भविस्य में दोबारा यह समस्या नहीं होती। 

6. पाइल्स के मसो के जड़ से गिरने के पश्चात् जख्मो के भर जाने के कुछ समय बाद इसके निशान भी नहीं रहते।


Comment ( 0 )

Write a comment...

(Your email will be not display in comment box.)

Related Blog

Piles Treatment
Piles Treatment

Genuine Products

Piles Treatment

Secure Transaction

Piles Treatment

Track Your Orders

Piles Treatment

Fast Delivery